Govardhan Puja 2023: गोवर्धन पूजा पर बन रहा शुभ सर्वार्थ सिद्धि योग, जानें कथा और पूजा विधि।

Govardhan Puja 2023: गोवर्धन पूजा पर बन रहा शुभ सर्वार्थ सिद्धि योग, जानें कथा और पूजा विधि।

Govardhan Puja 2023 : हिंदू धर्म में दिवाली का त्योहार 5 दिनों तक धूमधाम से मनाया जाता है जिसमें दूसरे दिन भगवान गोवर्धन की पूजा की जाती है और आज दूसरे ही दिन बन रहे सर्वार्थ सिद्धि योग से भगवान गोवर्धन की पूजा का महत्व और भी बढ़ जाता है।
भगवान गोवर्धन की पूजा हिंदू पंचांग के अनुसार कार्तिक माह की शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि को की जाती है। आज इस स्वार्थ सिद्धि योग के वजह से भगवान गोवर्धन की पूजा विशेष लाभ देने वाली बन गई है। आईए जानते हैं Govardhan Puja 2023 का शुभ मुहूर्त 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त 2023:

आज कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की प्रतिपादक तिथि सुबह 4:19 से आरंभ होकर 15 नवंबर को दोपहर 2:41 तक रहेगी।
तथा गोवर्धन पूजा का शुभ मुहूर्त आज शाम 4:18 से 8:42 तक रहेगी। यदि आप इस उचित समय पर भगवान गोवर्धन की पूजा करते हैं तो आपकी भगवान गोवर्धन की तरफ से हर काम मनोकामनाएं पूर्ण होगी। आईए जानते हैं भगवान Govardhan Puja 2023 की संपूर्ण पूजा विधि।

और देखें: Diwali से पहले CM योगी ने राज्य के कर्मचारियों को दिया तोहफा, 28 लाख लोगों को मिलेगा इसका फायदा

गोवर्धन पूजा 2023 पूजा विधि:

भगवान गोवर्धन की पूजा करने के लिए आज गाय के गोबर से भगवान गोवर्धन की आकृति बनाए तथा एक गाय की आकृति व उसके बछड़े की आकृति भी बनाएं। इसके बाद भगवान गोवर्धन की पूजा पंचामृत से करें तथा उन्हें 56 भोग और मिष्ठान का भोग लगावे। उसके बाद भगवान श्री कृष्ण की विधिवत पूजन करें और धूप दीप आदि देने के बाद भगवान गोवर्धन की कथा सुने वह दूसरों को सुनाएं।

उसके बाद भगवान गोवर्धन की आरती करने के बाद सभी लोग प्रसाद वितरण करें और भगवान गोवर्धन से अपने घर में आई विपत्तियां और दुखों को दूर करने की प्रार्थना करें। आईए जानते हैं गोवर्धन पूजा क्यों की जाती है|

गोवर्धन पूजा 2023 क्यों की जाती है?

आज भगवान गोवर्धन की पूजा को प्रकृति को समर्पित माना जाता है| आज ही के दिन भगवान श्री कृष्ण ने इंद्रदेव के घमंड को तोड़ने के लिए गोवर्धन पर्वत को अपनी कनिष्ठा ऊंगली से ऊपर उठाएं रखा था| जिससे गांव वासियों की जान बचाई गई वह सभी गांव वासी गोवर्धन पर्वत के नीचे तूफान और वर्षा के रोकने तक रहे। आज ही का दिन कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष प्रतिपदा का दिन था। इसलिए हर वर्ष हज के दिन भगवान गोवर्धन की विशेष पूजा अर्चना की जाती है।

और देखें: Delhi Air Pollution: बढ़ते प्रदूषण पर काबू पाने के लिए दिल्ली सरकार करेगी इस दिन कृत्रिम वर्षा!

हेलो मेरा नाम Sumit Dubey है| मेरी योग्यता BSC(computer science) और कंप्यूटर के क्षेत्र में किया गया एक Diploma(DCA) है| मैं पिछले 4 वर्षों से Blogging से जुड़ा हुआ हूं| मैंने कई तरह की वेबसाइट बनाई हैं| जिसमें से एक Wideindianews.com है| धन्यवाद...

Leave a comment